sir dard ka ilaj turant सिर दर्द के घरेलू उपाय, प्रकार और कारण

  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

sir dard ka ilaj सिर दर्द के घरेलू उपाय, प्रकार और कारण – सिर-दर्द या headache कुछ बीमारियों में सिर्फ लक्षण मात्र होता है, जैसे- बुखार, फ्लू, माता आदि। लेकिन कभी स्वतन्त्र रूप से सिर दर्द होता है तो ऐसा सिर-दर्द स्वयं एक रोग है। सिर-दर्द, ललाट, कनपटियों, सिर के पीछे के भागः, ऊपर के हिस्से, सारे सिर में कहीं भी हो सकता है।

सिर दर्द के कारण Reason for headache in hindi

  • मस्तिष्क की शिराओं में रक्त संचय
  • Bload Pressure की वृद्धि होने पर
  • ज्वर होने पर
  • क्रोधादि तीव्र मानसिक आवेश से
  • नींद कम आने से
  • रक्त में विष, जैसे मुत्र रोग, कब्ज, अपच से उत्पन्न प्रभाव से
  • आँखों की कमजोरी, नेत्र रोग, कान के रोग , नाक या गले, दाँतों के रोगों के कारण भी होता है।

इसे भी पढ़ें –गिलोय के फायदे और सेवन विधि

सिर दर्द के घरेलू उपाय sir dard ka ilaj

  1. सिर-दर्द के कारण, प्रकृति स्थिति, रोगी के धातु के अनुसार चिकित्सा करने से सिर-दर्द ठीक हो जाता है। सबसे पहले तो कारणों को दूर करने का प्रयास करें।
  2. जुकाम से सिर-दर्द हो तो- दोनों पैरों को गर्म पानी की बाल्टी में रखने से काफी आराम मिलता है।
  3. तेज सिर-दर्द होने पर सिर पर सादे पानी की पट्टी रखना चाहिए।
  4. सर्दी से सिर-दर्द हो तो-हींग गर्म पानी में घोलकर लेप करें।
  5. ठंड से सिर दर्द हो सकता है , ठंडे पानी से नहाने के कारण सर दर्द हो सकता है, ठंडी हवा में घूमने के कारण तो, नाक, कान, नाभि और तलवों पर सरसों का तेल लगायें, लाभ होगा।
  6. जुकाम सर्दी-ठंड से होने वाले सिर-दर्द में चाय पीने से सिर-दर्द में लाभ होता है।
  7. गर्मी से उत्पन्न सिर दर्द हो तो-सिर-दर्द में 50 ग्राम इमली को एक गिलास पानी में भिगों कर मल कर चीनी डालकर छान कर सुबह-शाम दो बार पीने से लाभ होता है।
  8. लू लगने से-सिर-दर्द हो तो प्याज को पीस कर पैरों के तलुओं पर लेप करने से लाभ होता है। प्याज काट कर सूंघने से भी सिर-दर्द दूर होता है।
  9. गर्मी से हुए-सिर-दर्द में उड़द की दाल भिगो कर पीसकर ललाट पर लेप करने से लाभ होता है।
  10. गर्मी से हुए-सिर-दर्द में सूखा धनिया दस ग्राम, गुठली रहित सूखा आँवला पाँच ग्राम रात को मिट्टी के पात्र में एक गिलास पानी में भिगो दें। प्राप्त मलकर मिश्री मिलाकर छान कर पिलायें।
  11. पित्त प्रकोप-के कारण होने वाले सिर-दर्द में फालसे का शर्बत सुबह-शाम पीना लाभप्रद है।
  12. पित्त- के कारण हुए सिर-दर्द में धनिया पीस कर लेप करें।
  13. कितना भी पुराना सिर-दर्द हो-ग्वार पाठे के गूदे में गेहूँ का आटा मिलाकर दो बाटी बनाकर सेक लें। सेकने के बाद हाथ से दबा कर देशी घी डाल दें। प्रातः काल सूर्योदय से पहले खाकर सो जाये। इस प्रकार 5-7 दिन सेवन करने से कैसा भी, कितना भी पुराना सिर-दर्द हो आराम मिलेगा।
  14. जिन्हें हमेशा सिर-दर्द की समस्या रहती है वो नींबू चाय में निचोड़ कर या नीम्बू की चाय पियें, लाभ होता है।
  15. कमजोरी से होने वाले सिर-दर्द में-बूंदी या मोतीचूर के लड्डूओं पर घी और काली मिर्च डालकर खाने से दर्द ठीक हो जाता है।

आधासीसी का दर्द क्यों होता है, Migraine, Hemicrania in Hindi

Turant sir dard ka ilaj सिर दर्द के घरेलू उपाय, प्रकार और कारण
Migraine

यह दर्द अधिकतर आधे सिर में होता है। 14-22 वर्ष की उम्र में शुरु होता मध्य आयु तक 15-15 दिन या महीनों के अन्तर से लोगों में शुरू होने वाला यह एक सिर दर्द है जो पहले सिर के एक भाग में प्रारम्भ होकर आधे सिर में और कभी-कभी सारे सिर और गर्दन में फैल जाता है। यह पितृ-परम्परा से आने वाला रोग है।

इसे भी पढ़ें –निम्बू की पतियों के फायदे | nimbu ki patti ke fayde

माइग्रेन क्यों होती हैं migraine hone ke karan

अतिभावुकता, मानसिक-शारीरिक थकावट, क्रोध, चिन्ता, आँखों के अधिक थक जाने से, भोजन सम्बन्धी गड़बड़ी, अनपथ, किसी द्रव्य से एलर्जी आदि।

माइग्रेन का पता कैसे चलता है? migraine ke lakshan in hindi

प्रातः उठते ही चक्कर आते हैं। आँखों के सामने अँधेरा-सा आ जाता है। कनपटी में चुभने वाला दर्द आरम्भ होता है, दर्द धीरे-धीरे फैलता हुआ तेज हो जाता है। हिलने, प्रकाश, शोरगुल से दर्द बढ़ता है। के होने से दर्द कम होता है।

2-4 घण्टे दर्द रहने के बाद क्रमशः घटने लगता है। अन्त में रोगी को नींद आ जाती है जब जागता है तो दर्द समाप्त हो चुका होता है।

इसे भी पढ़ें –अगर आपको भी अपनी इम्युनिटी बढ़ानी है तो इन्हे अपने डाइट में शामिल ज़रूर करें

विशेष ध्यान रखने वाली बातें sir dard ka ilaj

सिर बाँधने, ठंडी पट्टी रखने, शान्त जगह में सोने से आराम मिलता है। सिर की मालिश करने से दर्द शीघ्र घट जाता है। इसके रोगी को अधिक श्रम, कब्ज, अजीर्ण से बचना चाहिए।

तेल, घी में तली गई चीजें, माँस, चाय, कॉफी का सेवन नहीं करना चाहिये। आँखों पर अधिक जोर न डाला जाए।

माइग्रेन से रहत दिलाता है गाय का घी Benefits Of Migraine In Cow’s Ghee in Hindi

गाय का ताजा घी सुबह-शाम दो-चार बूंद नाक में रुई से टपकाने अथवा सूंघते रहने से आधे सिसी के दर्द से आराम मिलता है। साथ ही इससे नाक से खून गिरना भी जड़ मूल से नष्ट हो जाता है। ये प्रयोग सात दिन तक करें। यह एक अच्छा sir dard ka ilaj सिर दर्द के घरेलू उपाय में से एक है।

इसे भी पढ़ें –मुल्तानी मिट्टी के 5 फायदे | जानिए त्वचा के लिए मुल्तानी मिट्टी के जबरदस्त फायदें

घरेलु चिकित्सा माइग्रेन की mustard oil for migraine headache in hindi –

सिर के जिस तरफ के भाग में दर्द हो उस तरफ के नथुने में सात-आठ बूंद सरसों का तेल डालने अथवा सूंघने से दर्द एकदम बन्द हो जाता है। चार-पाँच दिन तक दिन में दो-तीन बार इसी प्रकार सूंघने से कई बार दर्द सदा के लिए मिट जाता है।

माइग्रेन का घरेलू उपचार Migraine sir dard ka ilaj

आधे सिर का दर्द, सारे सिर का दर्द यदि अपज से, पेट की गड़बड़ी से उत्पन्न हुआ हो तो सौंठ को पीस कर उसमें थोड़ा-सा पानी डालकर लुगदी बना लें। इसे हल्का-सा गर्म करें। फिर दर्द वाले स्थान पर लेप करें। यह भी सिर दर्द के घरेलू उपाय sir dard ka ilaj के अंतर्गत आता है।

चक्कर आना घरेलू उपाय Vertigo or Giddiness home remedy in hindi

  • पेट की गैस से चक्कर आता हो तो गर्म पानी में नींबू निचोड़ कर दो बार पीने से लाभ होता है।
  • 25 ग्राम मुनक्का धोकर, बीज निकाल कर घी से सेक कर सेंधा नमक डाल कर दो बार 7 दिन खाने से चक्कर आना बन्द हो जाता है।
  • गर्मियों से चक्कर आते हों, जी घबराता हो तो आँवले का शर्बत पीयें।
  • अधिक मानसिक काम करते हैं, सिर गर्म हो जाता है या चक्कर आने लगते हैं तो आपके लिए आँवले का मुरब्बा रामबाण है। इसका प्रतिदिन प्रात: कालीन प्रयोग आपकी बौद्धिक एवं मानसिक शक्ति को बलवान बनाएगा।

इसे भी पढ़ें- अमरुद की पत्तियों के बारे में वो सारी बातें जो आपको जरूर जानी चाहिए

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *