लिँग समस्या का समाधान 10 घरेलु नुस्खों से है आसान Erectile dysfunction in Hindi

लिँग समस्या का समाधान 10 घरेलु नुस्खों से है आसान Erectile dysfunction in Hindi

लिँग समस्या का समाधान 10 घरेलु नुस्खों से है आसान Erectile dysfunction in Hindi – लिँग समस्या या स्तम्भन दोष आज के समय की बड़ी ही कॉमन प्रॉब्लम है। क्या है इसके कारण और कैसे हो इसका निवारण ? आज हम आपको 10 घरेलु नुस्खे बता रहे हैं। इन घरेलु नुस्खों से आप लिँग समस्या का समाधान बड़ी ही आसानी से कर सकते हैं।

लिँग समस्या या स्तम्भन दोष के कारण हैं और कैसे करें लिँग समस्या का समाधान ? Erectile dysfunction reason in hindi

स्तम्भन दोष के मुख्यतः दो कारण होते हैं।

1. शारीरिक

2. मानसिक

स्तम्भन दोष का मानसिक कारण Mental reason for Erectile dysfunction in Hindi

पहले मानसिक कारणों पर विचार करते है। आधुनिक युग में गनुष्य चिन्ता और तनाव में अधिक रहता है। कई बार संभोग के समय भी वह इन बेकार की चिन्ताओं से मुक्त नहीं हो पाता ऐसी अवस्था में संभोग करने पर शिशन में वांछित दृढ़ता नहीं आपाती और यदि आती भी है तो वह क्षणिक होती है और व्यक्ति शीघ्र पतन का शिकार हो जाता है। एक बार ऐसा होने पर जब दूसरी बार संभोग का समय आता है तो व्यक्ति के मन में वही विचार आने लगते है कि कही फिर तो वैसे ही नहीं हो जायगा।

इसे भी पढ़ें – अच्छा सेक्स कैसे करते हैं ? सेक्सुअल परफॉर्मेंस बढ़ाने के 18 तरीके

स्तम्भन दोष का शारीरिक कारण Physical reason of Erectile dysfunction in Hindi

1. शारीरिक कारणों में कोई बीमारी, आपरेशन, दुर्घटना, हस्तमैथुन, हॉमोंस की गडबड़ी या कुछ दवाओं का कुप्रभाव। डायबिटीज, हृदय व रक्त वाहिनियों की बीमारी, लीवर किडनी का खराब होना, स्पाइनल कोर्ड में चोट के फलस्वरूप, पेट के निचले हिस्से के आपरेशन में यदि नसों या वाहिनियों में किसी प्रकार का अवरोध और दवाइयों के प्रतिकूल प्रभाव के रूप में नपुंसकता हो जाती है।

2. शराब, धूम्रपान व तम्बाकू के अत्यधिक सेवन से भी यह बीमारी होती है। आजकल छोटी-छोटी उम्र से ही बच्चे शराब धूम्रपान व तम्बाकू का सेवन करने लगते है। जब तक संभोग करने लायक होते है। तब तक यह सारी चीजे उनके खून में धूल चुकी होती है।

3. अल्प आयु में अधिक मैथून से अथवा अप्राकृतिक रूप से मैथून क्रियाओं में सलंग्न रहने से और कुछ व्यक्ति जन्म से ही नपुंसक होते हैं।

इसे भी पढ़ें – योनि धूपन थेरेपी|yoni dhoopan chikitsa

आखिर क्यों होता है स्तम्भन दोष ? Reason of Erectile dysfunction in Hindi

शिशन में पूर्ण दृढ़ता के लिए नस रक्त प्रवाह की धमनियों और शिराओं, हॉमोंस, माँसपेशियों तथा मस्तिष्क इन सब का एक सुर और ताल में कार्य करना जरूरी है किसी एक का सुर भी बिगड़ा तो संभोग का संगीत बेसुरा हो जाता है। आपके सहयोगी का संभोग के लिए तैयार होना जरूरी है यदि वह तैयार नहीं है तो भी आपके सुर ताल में गड़बड़ी आ जायगी। क्योंकि संभोग का अर्थ ही है-सम+भोग अर्थात् जिसे दोनों पार्टनर सामान रूप से भोग करते हों।

मानसिक तैयारी के अलावा वातावरण भी इसे प्रभावित करता है। एकांत न होना ,किसी के देखने सुनने का भय, किसी तरह की आहट का भय भी संभोग में कमी ला सकता है।

इसे भी पढ़ें – महिलाओं में कामेच्छा बढ़ाने के उपाय | कामशक्ति बढ़ाने के घरेलू उपाय

लिँग समस्या का समाधान ऐसे करें Erectile dysfunction treatment in Hindi

1. सबसे पहले तो यह पता करे कि नपुंसकता का कारण क्या है फिर उसी के अनुसार चिकित्सा करें। है। सत्य को छिपाये नहीं। नीम हकीम डाक्टरों व विज्ञापनों के चक्कर में फंस कर शेष बची पौरुष शक्ति को भी नष्ट न करें।आधुनिक चिकित्सा विज्ञान द्वारा लिँग समस्या का समाधान बहुत आसान हो गया है।

2. अधेड़ उम्र में धूम्रपान व नशीली वस्तुओं के सेवन और चर्बी युक्त भोजन करने से नपुंसकता आ जाती है। सो उनसे बचें।

3. प्याज काम वासना को जगाता है। वीर्य को उत्पन्न करता है। देर तक मैथून करने की शक्ति देता है। प्याज़ का रोजाना सेवन करके भी आप लिँग समस्या का समाधान कर सकते हैं।

इसे भी पढ़ें – पुरुषों का सेक्स टाइम बढ़ाने का आयुर्वेदिक तरीका

4. छुआरा नित्य दूध में भिगोकर उसकी खीर बनाकर खाने से उसके पौष्टिक गुण बढ़ जाते है। इसलिए किसी भी प्रकार से छुआरा खाने से शीघ्र पतन और पतले वीर्य में लाभदायक है।

5. चिलगोजे में अधिक मर्दाना शक्ति है यह नित्य 15 दिन तक लें।

लिँग समस्या का समाधान अब हुआ आसान Erectile dysfunction home remedy in Hindi

6. जो युवक लम्बे समय तक किसी सक्रामक रोग से पीड़ित रहते है वे शारीरिक निर्बलता के कारण वीर्य की क्षीणता के कारण नंपुसकता अनुभव करते है। ऐसे नवयुवकों को सहवास से अलग रहते हुए पौष्टिक आहार जैसे घी, दूध, मक्खन, सूखे मेवे और फलों के रस का सेवन करना चाहिए। कुछ हल्के व्यायाम व सूर्यादय के समय पार्क में घूमने के लिए अवश्य जाना चाहिए।

इसे भी पढ़ें – अशोक की छाल के फायदे महिलाओं के लिए, 5 स्त्री रोग का आयुर्वेदिक इलाज

7. प्रात: लहसुन की 5 कली को चबाकर दूध पिये या फिर खाने के पहले 5 ग्रास के साथ 5 कली लहसुन खाने से नपुंसकता नष्ट होती है, काम शक्ति बढ़ती है।

8. सूखी व गीली गिलोय का सेवन देशी घी के साथ किया जाय तो नपुंसकता दूर होती है। स्वप्न दोष आदि से मुक्ति मिलती है। सूखी गिलोय का पाउडर 4-6 ग्राम तक व गीली गिलोय 10 से 25 ग्राम तक ले सकते हैं।

9. संभोग के बाद जरा सी सोंठ डालकर गर्म दूध पीने से खोई शक्ति पुन वापस आ जाती है।

10. ग्वार पाठा के तीन चार पत्ते का गूदा और नीम गिलोय का पानी पीने से बूढ़े भी जवान हो जाते हैं। लिँग समस्या का समाधान करने के लिए ग्वार पाठा या एलोवेरा काफी उपयुक्त है।

इसे भी पढ़ें – अच्छा सेक्स कैसे करते हैं ? सेक्सुअल परफॉर्मेंस बढ़ाने के 18 तरीके

इसे भी पढ़ें –गिलोय के फायदे और सेवन विधि

mere gharelunuskhe: